Skip to main content

Posts

Featured post

उत्तराखंड प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु प्रश्नोत्तर पार्ट 3

gsyks nksLrks vkt bl lhjht dk frljk Hkkx vkids fy, ysdj vk;s gSa ] ftlesa vkidks vkxkeh izfr;ksxh ifj{kkvksa gsrw dkQh enn feysxh!  स्कन्द पुराण में गढ़वाल के लिए प्रयुक्त क्या नाम है - केदारखंड  किस क्षेत्र को कुमाऊँ का बारदोली कहा  जाता है - सल्ट क्षेत्र को  अशोक कालीन शिलालेख राज्य के किस स्थान से मिला है - कालसी देहरादून  कालिदास ने अभिज्ञानशाकुंतलम की रचना किस आश्रम में की थी और वह किस नदी के तट पर है - कण्वाश्रम और मालिनी नदी पर  कुमाऊँ में गोरखा शासन कब स्थापित हुआ - 1790  विशेष रूप से किस देवता से अल्मोड़ा का कटारमल मंदिर सम्बंधित है - सूर्य  कौन सा मुग़ल शहजादा था जिसने श्रीनगर में आश्रय लिया था - सुलेमान शिकोह  टेहरी गढ़वाल में ढाँढ़क आंदोलन किससे सम्बंधित था - मजदूरों से  डोला पालकी आंदोलन किससे सम्बंधित है - शिल्पकारों से  कुमाऊँ का प्रथम कमिशनर कौन था - ई. गार्डनर  चांदपुर गढ़ राज्य कहाँ पर स्थित था - चमोली गढ़वाल में  उत्तराखंड के प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल गोविषाण की पहचान की गयी है - काशीपुर  प्रसिद्ध गुफा शैल चित्र स्थल लाखूओडियार कहाँ पर स्थित है - अल्मोड़ा में  अल्मोड़ा कांग्रेस
Recent posts

उत्तराखंड सबसे महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर पार्ट 2

दोस्तों महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर की द्वितीय श्रृंखला यहाँ पर दी जा रही है। जो की आगामी उत्तराखंड की परीक्षाओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।  उत्तराखंड मंत्रिपरिषद में अधिकतम मंत्री कितने हो सकते हैं - 10  उत्तराखंड विधानसभा में अनुसूचित जनजाति के लिए कितने सीट आरक्षित हैं - 2 उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन कब लागु हुआ -   २७ मार्च २०१६ उत्तराखंड के प्रथम पुलिस महानिदेशक - अशोक कांत सरन उत्तराखंड में कितने विकासखंड है - 95 उत्तराखंड राज्य का राजकीय खेल - फुटबॉल उत्तराखंड में लोकसभा की कितनी सीट हैं - 5  उत्तराखंड में राज्यसभा की कुल कितनी सीट हैं - 3 उत्तराखंड के प्रथम मुख्य सचिव - अजय विक्रम सिंह राज्य के महाधिवक्ता की नियुक्ति किसके द्वारा की जाती है - राज्य के राज्यपाल द्वारा। कौशिक कमिटी का गठन कब हुआ - 1994  The Questions and Answer in English for the candidates who are preparing in English Language. How many ministers can be in Uttarakhand Council of Ministers - 10  How many seats are reserved for Scheduled Tribes in Uttarakhand Assembly - 2  When did the President rule in Uttarakha

VDO/ VPDO Recruitment 2020 के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर पार्ट १

हेलो दोस्तों हमने आपके लिए आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए अब तक के उत्तराखंड प्रतियोगी प्रश्नो के प्रश्न और उत्तर की नयी सीरीज शुरू की है जिसमें आप लोग आसानी से हमारी वेबसाइट से पढ़ सकते हैं और याद कर सकते हैं।  यह प्रश्नोत्तर पिछली परीक्षाओं में कई बार पूछे जा चुके हैं।  उत्तराखंड का राज्य पक्षी कौन है। - मोनाल उत्तराखंड का राज्य पुष्प - ब्रह्मकमल अस्कोट वन्यजीव अभ्यारण किस जनपद में स्थित है - पिथौरागढ़ राज्य पक्षी मोनाल का प्रिय आहार  - आलू उत्तराखंड में कांचुला खर्क है - कस्तूरी मृग संरक्षण केंद्र उत्तराखंड राज्य में ब्रह्मकमल की कुल कितनी प्रजातियां पायी जाती हैं - २४ राज्य में बुरांश वृक्ष में  फूल खिलने का समय है - फरवरी से अप्रैल  उत्तराखंड राज्य में कुल कितने जिले हैं  - १३  किस तिथि को राज्य का नाम उत्तराँचल से उत्तराखंड कर दिया गया  -१ जनवरी २००७।  उत्तराखंड राज्य स्वरुप में आया - ९ नवंबर २०००।  कौन सी विधानसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है - चकराता  उत्तराखंड में ग्रामसभा की स्थापना की जाती है - राज्य सरकार द्वारा  उत्तराखंड राज्य में कितने नगर निगम हैं - ८  नगर निगम

Nainital Bank 155 Vacancies for Clerk and PO Recruitment 2020 Notification and Details

Nainital Bank Ltd. Announced for 155 PO & Clerk Post Recruitment 2020 | Apply Now Online Nainital Bank Limited has announced the advertisement for the recruitment of 155 PO & Clerk posts which can be applied through online via their official website and candidates can also make the examination fee payment online. Check out the below given more details of Recruitment. The Total Vacancies for this recruitment is 155 in which 75 posts are for Bank PO (Probationary Officer) and 80 Post for Clerical Cadre. So if you want to make you career as a banker and you really have that preparation skill to clear the exam then you should apply for it and its the time to go for your career option. As well as the bank also required if you have any previous banking experience means its not mandatory but if you have it, you will be preferred in selection process. Total Vacancies - 155 Bank Name - Nainital Bank Ltd. Post Types :-  Bank PO / Clerk. Starting Date of Online App

कुम्भ मेला २०२१ अपने निर्धारित समय से ही होगा | मुख्यमंत्री जी ने खुद दी जानकारी

कुम्भ मेला २०२१ अपने निर्धारित समय से ही होगा | मुख्यमंत्री जी ने खुद दी जानकारी कुम्भ मेला २०२१ में होने वाला है अपने निर्धारित तिथि के अनुसार ही होगा और उत्तराखंड के वर्त्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्वयं इसकी जानकारी दी।  और यह भी कहा है की सारी तैयारियां जारी है और हर योजना को क्रियान्वन में लाया जा रहा है।    जैसा की आप लोग जानते ही होंगे की कुम्भ मेला हर १२ साल में हरिद्वार तथा अन्य स्थलों पर होता है जो की इस साल हरिद्वार में होने वाला है।  लेकिन पहले कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते यह खबर आ रही थी की कुम्भ मेले को एक साल शायद आगे बढ़ाया जाये। और इस साल स्थगित किया जा सकता है।  लेकिन आखाड़ों केमहामंडलेश्वरों तथा अन्य मेला सभा के लोगों द्वारा इसका विरोध किया गया और सरकार को यह निर्णय लेना पड़ा की २०२१ में ही कुम्भ मेले का आगाज किया जाएगा।  क्योंकि इस साल कोरोना वायरस के चलते चारधाम यात्रा उत्तराखंड भी बंद रही और जिस कारण प्रदेश में पर्यटन को काफी ज्यादा नुकसान हुआ। और अन्य व्यवसाय भी बंद होने की कगार पर हैं।  इसलिए अगर कुम्भ मेला २०२१ में होता है तो पर्यटन को शायद फिर से

उत्तराखंड का इतिहास | कुणिंद वंश का शासन काल | प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए पार्ट - १

उत्तराखंड का प्रागैतिहासिक काल और इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु। उत्तराखंड की समस्त परीक्षाओं के लिए | कुणिंद वंश का शासन काल अगर हम उत्तराखंड के सबसे पुराने इतिहास की बात करें तो हमें कोई ख़ास जानकारी तो नहीं मिलती परन्तु कहीं उल्लेख मिलता है। किसी किताब में या फिर अभिलेखों में। क्योंकि उत्तराखंड का लिखित इतिहास उतना नहीं मिलता जितना अन्य राज्यों का या फिर देश का मिलता है।  सबसे पहले अगर हम बात करें तो कुणिंद शासन काल का पता चलता है।  जो की महाभारत के वन पर्व में भी पुलिंद या कुणिंद वंश का उल्लेख किया गया है। और यहाँ के राजा को उस समय सुबाहु नाम से बताया गया है। लेकिन यह भी कहा जाता है की सर्वप्रथम यहाँ पर कोल जनजाति का निवास था। जो यहाँ के मूल निवासी थे तथा मध्य एशिया से नहीं आये थे।  उसके बाद यहाँ पर किरात आये और कोल लोगों को युद्ध में हराकर मैदानी भागों से पहाड़ी भागों में भगाया। लेकिन साथ में उन्होंने कोलों के साथ वैवाहिक सम्बन्ध भी स्थापित किये। फिर शुरुआत होती है कुणिंद वंश जिनको पुलिंद भी कहा जाता है। और जब कुणिंद वंश के बारे में प्रमाण की बात आती है तब तक भारत पर मौर्य काल शा

अगर आना चाहते हैं उत्तराखंड तो अब 2000 लोगों वाली शर्त हुई खत्म

अगर आना चाहते हैं उत्तराखंड तो अब 2000 लोगों वाली शर्त हुई खत्म | हर कोई आ जा सकेगा अब उत्तराखंड | नई शर्तें लागू दोस्तों जैसा की आप लोगों को पता ही होगा की कुछ समय पहले उत्तराखंड सरकार ने नए नियम के अनुसार यह निर्धारित कर दिया था की एक दिन सिर्फ 2000 लोग ही उत्तराखंड में आ सकते हैं और इसके साथ ही आपको इ-पास तथा आईसीएमआर द्वारा जारी की गयी कोरोना वायरस की नेगेटिव होने की पुष्टि वाली रिपोर्ट जारी करानी होगी।  उसके बाद ही उत्तराखंड बॉर्डर से आप को राज्य में आने दिया जायेगा।  खैर शनिवार को नए नियम के अनुसार अब आपको ये सब करने की जरुरत नहीं।  लेकिन इसका मतलब यह नहीं है आपको कोरोना वायरस की नेगेटिव रिपोर्ट नहीं लानी पड़ेगी। वो तो अभी भी जरुरी है लेकिन अब आपको सिर्फ स्मार्ट सिटी देहरादून के वेब पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा। जिससे की आपकी जानकारी सरकार तक पहुंचे और यह आपकी ही सुरक्षा के लिए हैं।  कैसे बनाये ई-पास | क्लिक करें  प्रभारी सचिव  - आपदा प्रबंधन एस. मुरुगेशन जी ने शनिवार शाम को ही इस बात की जानकारी दी की अब नए नियम के अनुसार 2000 लोगों वाली एंट्री की समस्या को खत्म कर दिया है।  और अब